जिला सांख्यिकी कार्यालय

आर्थिक और सांख्यिकीय विश्लेषण विभाग

गतिविधियां और उपलब्धियां

जिला सांख्यिकी कार्यालय, आर्थिक और सांख्यिकीय विश्लेषण विभाग, हरियाणा सरकार दवारा दोहराव को रोकने के लिए और सांख्यिकीय जानकारी के लिए विभिन्न कार्यालयों की सांख्यिक गतिविधियों का समन्वय करता है। जिला सांख्यिकी कार्यालय द्वारा एकत्र आंकड़ों का आंकड़ा जिला / राज्य स्तर प्रकाशन में प्रकाशित किया गया है। जिला सांख्यिकी कार्यालय, कुरुक्षेत्र के कार्यों और गतिविधियां नीचे वर्णित हैं: –

  • विभिन्न सामाजिक आर्थिक पहलुओं से संबंधित विभिन्न प्रकार के सांख्यिकीय आंकड़ों का संग्रह, संकलन और विश्लेषण।
  • विकास कार्यक्रम की योजना और तैयार करने के लिए आवश्यक सभी प्रकार के सांख्यिकीय आंकड़ों के लिए महत्वपूर्ण रूप में कार्य करता है।
  • जिले की विभिन्न सामाजिक-आर्थिक समस्याओं से संबंधित सर्वेक्षण करता है और चयनित परियोजनाओं पर मूल्यांकन का अध्ययन करता है।

प्रकाशन अनुभाग

  • जिला सांख्यिकी सार (डीएसए) यह एक महत्वपूर्ण प्रकाशन है जिसमें नीतिगत निर्णय लेने, विकास योजना तैयार करने और अनुसंधान कार्य करने के लिए उपयोगी जानकारी शामिल है। यह वार्षिक प्रकाशन वर्ष 2015-16 के लिए जिला सांख्यिकी सार के रुप में उपलब्ध है।
  • जिला सामाजिक आर्थिक समीक्षा (डीएसईआर) जिला सामाजिक आर्थिक समीक्षा एक और वार्षिक प्रकाशन है जो वर्ष 2015-16 के लिए डीएसईआर के पास उपलब्ध है।
  • शहरी वार्षिक किताब (एमआईबी) यह एक वार्षिक प्रकाशन भी है वर्ष 2015-16 के लिए एमआईबी में उपलब्ध है।

हरियाणा कर्मचारी की जनगणना (स्टाफ स्टैटिक्स)
सरकार में नियोजित कर्मचारियों की स्थिति के बारे में पता करने के लिए प्रत्येक वर्ष के 31 मार्च को कार्यालयों को सभी सरकारी आंकड़ों से एकत्र किया जाता है व जिला कार्यालय द्वारा जांच करके विभाग के ऑनलाइन सॉफ्टवेयर में डाले जाते है। 31-03-2016 का डाटा ऑनलाइन सॉफ्टवेयर में अपलोड किया गया है।

फार्म खाता और परिवार के बजट का सर्वेक्षण (एफए और एफबी)
यह कार्यालय ‘अर्थशास्त्र के गठन और चयनित किसानों के परिवार के बजट का अध्ययन करता है। इस प्रयोजन के लिए प्रत्येक ब्लॉक के दो गांवों में 12 फार्म खाते और परिवार के 6 बजट रजिस्टर किए गए हैं। सभी होल्डिंग्स का निरीक्षण नियमित रूप से किया जा रहा है।

राज्य की आय का अनुमान
राज्य की आय का अनुमान तैयार करने के लिए, यह कार्यालय 48 कार्यालयों से सूचना एकत्र करता है और उसके संकलन और जांच के बाद जानकारी प्रधान कार्यालय को भेज दी जाती है। 2015-16 के लिए जानकारी पहले से ही जिला मुख्यालय में भेजी जा चुकी है।

पूंजी संरचना का अनुमान
राज्य की आय के अनुमान तैयार करने के लिए, यह कार्यालय 60 कार्यालयों से जानकारी एकत्र करता है और संकलन और जांच के बाद जानकारी प्रधान कार्यालय को भेजी जाती है। 2015-16 के लिए जानकारी पहले से ही जिला मुख्यालय में भेजी जा चुकी है।

मूल्य अनुभाग

  • उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई ग्रामीण) ग्रामीण क्षेत्रों की पखवाड़े से खुदरा कीमतें (निसिंग) को समय-समय पर एकत्र किया जाता है और विभाग के ऑनलाइन सॉफ्टवेयर पर अपलोड किया जाता है।
  • थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) विभिन्न कृषि वस्तुओ की साप्ताहिक थोक मूल्य समय पर बाजार समिति कुरुक्षेत्र से एकत्र करके विभाग के ऑनलाइन सॉफ्टवेयर पर अपलोड किया जाता है।
  • मार्किट कमेटी आगमन और कीमतें वार्षिक (सप्ताह के अनुसार) विभिन्न कृषि वस्तुओ के आगमन और कीमते जिला कुरुक्षेत्र और संकलित रिपोर्ट सभी बाजार समितियों से समय पर एकत्रित की जा रही है।
  • भवन निर्माण सामग्री की कीमतें हर साल के तिमाही में भवन निर्माण सामग्री के मूल्य ग्रामीण और शहरी इलाकों से एकत्र किए जाते हैं और जिला मुख्यालय को नियमित तौर पर।भेजते हैं।
  • लाइव स्टॉक मूल्य पशुधन के निसिंग और कुंजपुरा से अर्ध वार्षिक मूल्य एकत्र किए जा रहे हैं, समय पर और नियमित रूप से जिला मुख्याल को भेज दी जाती है।
  • कृषि श्रम मजदूरी और ग्रामीण खुदरा मूल्य गांव झंझाड़ी से मासिक जानकारी एकत्र करके जिला मुख्यालय को समय-समय पर और नियमित रूप से भेजी जा ही है।

बजट अनुभाग / नगरपालिका बजट
सभी नगरपालिका के वार्षिक बजट एकत्र करके, जांच करके और उन्हे विभाग के ऑनलाइन सॉफ्टवेयर पर अपलोड कर दिये जाते है।

पंचायत समिति बजट
सभी पंचायत समितियों के वार्षिक बजट एकत्र करके, जांच और विभाग को ऑनलाइन सॉफ्टवेयर पर अपलोड कर दिये जाते है।

ग्राम पंचायत बजट (अंक संख्या 5)
सभी ग्राम पंचायत (खण्ड अनुसार) के वार्षिक बजट एकत्रित करके, और जांच करके ऑनलाइन सॉफ्टवेयर में अपलोड कर दिये जाते है।

20 सूत्री कार्यक्रम
इस कार्यक्रम के तहत विभिन्न गतिविधियों के लक्ष्य सरकार द्वारा तय किए जाते हैं विभिन्न विभागों से सूचना एकत्र करके और संकलित करके मासिक / त्रैमासिक रिपोर्ट सरकार को भेजी जा रही है समय-समय पर और नियमित रूप से मासिक बैठक में उपायुक्त कुरुक्षेत्र द्वारा मासिक प्रगति रिपोर्ट की समीक्षा की जाती है।

राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण (एनएसएस)
राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण (एनएसएस) 1950 में भारत सरकार द्वारा विभिन्न पहलुओं पर सामाजिक-आर्थिक आंकड़े एकत्र करने के लिए स्थापित किए गए थे|

राष्ट्रीय भवन निर्माण संगठन (एन.बी.ओ)
नगर निगम कुरुक्षेत्र, एस्टेट अधिकारी हु्ड्डा, और जिला टाउन प्लानर कुरुक्षेत्र से समय-समय पर निर्माण / मूल्य / भवन सामग्रियों के मूल्य के बारे में जानकारी एकत्रित की जाती है और विभाग की ऑनलाइन सॉफ्टवेयर पर अपलोड किया जाता है।

विविध कार्य

  1. विभाग की दिशा के अनुसार आर्थिक जनगणना आयोजित की जाती है।
  2. जनगणना विभाग द्वारा हर दस साल बाद जनगणना की जाती है।
  3. उद्योग का वार्षिक सर्वेक्षण (ए.एस.आई)।
  4. वार्षिक रोजगार और बेरोजगारी सर्वेक्षण।
  5. स्थानीय स्तर के विकास के बुनियादी आंकड़े।
  6. विभाग / प्रशासन द्वारा निर्देशित समय-समय सर्वेक्षण।

औद्योगिक उत्पादन सूचकांक
औद्योगिक उत्पादन सूचकांक से संबंधित जानकारी मासिक आधार पर 9 इकाइयों से नियमित रूप से एकत्रित की जाती है और सभी इकाइयों की एकत्रित सूचना प्रधान कार्यालय को भेजी जाती है।

राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण
राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण आम तौर पर भूमि उपयोग, उपभोग, रोजगार, कृषि वस्तुओं की खपत के बारे में जानकारी प्रदान करते है। ये सर्वेक्षण आमतौर पर एक वर्ष की अवधि के दौर में आयोजित किए जाते हैं। जुलाई, 2011 से 68 वें दौर की प्रगति में है।

नगर सांख्यिकी पुस्तक
इसका वार्षिक प्रकाशन भी किया जाता है 2009-10 तक की सीरीज़ प्रधान कार्यालय में भेज दी गई है। अगली श्रृंखला का प्रकाशन 2012 में होगा।

ग्राम पंचायत, पंचायत समिति, नगरपालिका के बजट
सभी ग्राम-पंचायत, पंचायत सामग्रियों और नगरपालिकओ के बजट को एकत्रित करके जांच की जाती है और उस बजट को प्रधान कार्यालय को भेज दिया जाता है।

स्टाफ जनगणना
सरकार में नियोजित कर्मचारियों की स्थिति के बारे में पता करने के लिए प्रत्येक वर्ष के 31 मार्च, 2010 तक के कार्यालयों को एकत्रित किया गया जांच की गई है और कम्प्यूटर में फीड कर दिया गया है। फ्लॉपी के साथ विस्तृत और पूर्ण रिपोर्ट हर साल प्रधान कार्यालय में भेजी जा रही है।